Lyrics of Naat Naate Sarkar Ki Padta Hoon Main.

Lyrics of Naat ‘Naate Sarkar Ki Padta Hoon Main’ in Hindi Transliteration:

Naate sarkar ki pada hoon main, Bas isi baat se ghar mein mere rahmat hogi,
Ek tera naam wasila hai mera, Ranjo-Gham mein bhi isi naam se rahat hogi.

नाते सरकार की पड़ता हूँ मैं, बस इसी बात से घर में मेरे रहमत होगी।
इक तेरा नाम वसीला है मेरा, रंजो-ग़म में इसी नाम से राहत होगी।

Ye suna hai ki bahut ghori andheri hogi, Ye suna hai ki bahut ghori andheri hogi,
Kabr ka khauf na rakhna ae dil, Wahan sarkar ke chehre ki ziyarat hogi.

ये सुना है के बहुत घोरे अँधेरी होगी, ये सुना है के बहुत घोरे अँधेरी होगी,
कब्र का खौफ ना रख ऐ दिल, वहां सरकार के चेहरे की जियारत होगी।

Kabhi yaseen kabhi taaha kabhi walle laya, Kabhi yaseen kabhi taaha kabhi walle laya,
Are jiski kasmein mera rab khata hai, Kitni dilkash mere mahboob ki soorat hogi.

कभी यासीन कभी ताहा कभी वल्ले लाया, कभी यासीन कभी ताहा कभी वल्ले लाया,
अरे जिसकी कसमें मेरा रब खाता है, कितनी दिलकश मेरे महबूब की सूरत होगी।

Unko mukhtar banaya mere Allah ne, Unko mukhtar banaya mere Allah ne,
Par khuld mein bas wohi jaa sakta hai, Jisko hasnain ke baba ki ijazat hogi.

उनको मुख़्तार बनाया मेरे अल्लाह ने, उनको मुख़्तार बनाया मेरे अल्लाह ने,
पर खुल्द में बस वही जा सकता है, जिसको हसनैन के बाबा की इजाज़त होगी।