Lyrics of Naat Zikre Ahmed Se Seena Saja Hai.

Lyrics of Naat ‘Zikre Ahmed Se Seena Saja Hai’ in Hindi Transliteration:

Zikre Ahmed se seena saja hai, Ishq hai ye tamasha nahin hai,
Wo bhi dil koi dil hai jahaan mein, Jisme tasveere taibah nahin hai.

ज़िक्रे अहमद से सीना सजा है, इश्क है ये तमाशा नहीं है,
वो भी दिल कोई दिल है जहां में, जिसमे तस्वीरे तैबह नहीं है।

Ae meri maut ruk ja abhi tu, Phir chalenge (milenge) jahaan tu kahegi,
Apne mashke tasavvur mein taibah, Maine jee bhar ke dekha nahin hai.

ऐ मेरी मौत रुक जा अभी तू, फिर चलेंगे (मिलेंगे) जहां तू कहेगी,
अपने मश्के तसव्वुर में तैबह, मैंने जी भर के देखा नहीं है।

Hajj ki daulat jise mil na paaye, Jaaye jaaye wo ghar apne jaaye,
Maa ke kadmon ko wo choom le jo, Sange Asvad ko chooma nahin hai.

हज की दौलत जिसे मिल न पाए, जाए जाए वो घर अपने जाए,
माँ के क़दमों को वो चूम ले जो, संगे अस्वद को चूमा नहीं है।

Hum husaini hain karbal ke shaida, Dil kabhi bhi na hota hai maila,
Kufr (Shirk) ki dhamkiyon se dare jo, Sunniyon ka kaleja nahin hai.

हम हुसैनी हैं करबल के शयदा, दिल कभी भी न होता है मैला,
कुफ्र (शिर्क) की धमकियों से डरे जो, सुन्नियों का कलेजा नहीं है।

Khak paaye nabi munh pe malna, Itr ho mustafa ka paseena,
Unki chadar ka tukda kafan ho, Aur koi tamanna nahin hai.

खाक पाए नबी मुंह पे मलना, इतर हो मुस्तफा का पसीना,
उनकी चादर का टुकड़ा कफ़न हो, और कोई तमन्ना नहीं है।